Welcome to gyanbooks.com
Naveekaran Ka Rasta: Tibet ki Ek Yatra
9788121213684

  
SEND QUERY
 
Author Daang Yimin
Year 2018
Binding Paperback
Pages 264
ISBN10, ISBN13 8121213681, 9788121213684
Short Description
The Title 'Naveekaran Ka Rasta: Tibet ki Ek Yatra written/authored/edited by Daang Yimin', published in the year 2018. The ISBN 9788121213684 is assigned to the Paperback version of this title. This book has total of pp. 264 (Pages). The publisher of this title is Gyan Publishing House. This Book is in Hindi. The subject of this book is Tibetan Studies. POD
List Price: US $9.95
Your PriceUS $9.00
You Save10.00%
Looks for Similar Books by Keywords:
Hindi (language) | 2018 (year) |
Untitled Document

ABOUT THE BOOK

नवीकरण का रास्ता तिब्बत की एक यात्रा में तिब्बत के कुछ बड़े हाईवे के निर्माण के दौरान के संघर्षों, कठिनाइयाँ, और इन सब पर विजय का वर्णन किया है। लेखक दांग यिमिन अपनी किताब उन वीर सैन्य टुकड़ियों को भेंट करना चाहते हैं, जिन्होंने तिब्बत की सड़कों को यातायात के लिए खुला रखने के लिए बलिदान दिए या अभी भी बलिदान दे रहे हैं और साथ ही वह इस किताब को उन सैनिकों को समर्पित करना चाहते हैं, जो अब बर्फीले पहाड़ों के नीचे सो रहे हैं। तिब्बत में रखा आपका हर कदम आपको सड़क-निर्माण में अपना योगदान देने वाले उन चीनी सैनिकों के जोश और साहस की याद दिलाएगा।

ABOUT THE AUTHOR

दांग यिमिन, चीनी लेखक संस्था और चीनी पत्रकार संस्था के सदस्य हैं। वह अपनी चीनी सेना पर लिखी गई कई प्रसिद्ध पुस्तकों के लिए जाने जाते हैं। उनकी पुस्तकों में पाठकों को चीनी सैनिकों की कर्मनिष्ठा, उनके निजी-जीवन, और उनकी राष्ट्र-भक्ति का परिचय मिलता है। लेखक दांग यिमिन अपनी किताबें हथियारबंद सैन्य टुकड़ियों के उन वीर सैनिकों को भेंट करना चाहते हैं, जिन्होंने तिब्बत की सड़कों के रखरखाव एवं उन्हें यातायात के लिए खुला रखने के लिए बलिदान दिए या अभी भी बलिदान दे रहे हैं, साथ में अपनी पुस्तकों के माध्यम से उन सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करना चाहते हैं, जो अब हमेशा के लिए बर्फीले पहाड़ों के नीचे सो रहे हैं।

CONTENTS

विषय-सूची

प्रस्तावना ................................................................................................................. 7

भाग - 1
स्वर्ग के रास्ते में कदम रखा

1. ऐतिहासिक पृष्ठभूमि ........................................................................................... 15

2. संस्मरण के टुकड़े .............................................................................................. 25

3. सफेद आपदा ...................................................................................................... 41

4. यिगोंग में हुआ बड़ा भूस्खलन ........................................................................ 61

5. नूबा, नूबा ............................................................................................................. 95

भाग - 2
अली की ओर संघर्ष

1. एक अनजान क्षेत्र पर पहला आक्रमण ........................................................ 129

2. सभी लोग और वाहन हजार किलोमीटर चले .......................................... 145

3. सेविंग प्राइवेट रयान (प्राइवेट-सैनिक रयान को बचाना है) ................. 167

भाग - 3
स्वर्ग के बीच से गुजरना

1. “शून्य किलोमीटर” पर ध्यान लगाना ........................................................... 187

2. बर्फ में जमे हुए दबान को पार किया ......................................................... 203

3. शिकुआन नदी में घोडे. को पानी पिलाया ................................................. 229

4. अनजान क्षेत्र में आगे बढे़ .............................................................................. 247

5. पोटाला महल गए ............................................................................................ 277

6. सजीला से हुआ आमना-सामना .................................................................. 289

7. पुर्लांग खाई को पार किया ............................................................................ 307

8. झामु में रोका गया ........................................................................................... 321

9. शियांगबाला से विदा हुआ ............................................................................. 335

Reviews
No reviews added. Be the first one to add review!
Add Review

Write your review about this book. your review will be published within 24 hrs.

*Review
(Max. 200 characters.)
* Name :
*Country :
*Email :
*Type the Code shown
 
 
www.gyanbooks.com is not be responsible for typing or photographical mistake if any. Prices are subject to change without notice.